5.9 C
Munich
Tuesday, March 5, 2024

सचिन तेंदुलकर को महाराष्ट्र के स्वच्छ मुख अभियान के लिए ‘स्माइल एंबेसडर’ के रूप में नियुक्त किया गया


सचिन तेंदुलकर को मंगलवार (30 मई) को महाराष्ट्र के स्वच्छ मुख अभियान (एसएमए) के लिए “स्माइल एंबेसडर” नामित किया गया था, जिसका उद्देश्य पूरे राज्य में मौखिक स्वच्छता को बढ़ावा देना था। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री की उपस्थिति एकनाथ शिंदे और उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने इस अवसर को चिह्नित किया क्योंकि उन्होंने औपचारिक रूप से क्रिकेट के दिग्गज के साथ समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए।

स्वच्छ मुख अभियान क्या है?

स्वच्छ मुख अभियान, संक्षिप्त रूप में एसएमए, इंडियन डेंटल एसोसिएशन (आईडीए) के राष्ट्रीय अभियान का एक घटक है। इस महत्वाकांक्षी अभियान का उद्देश्य भारतीय नागरिकों के बीच मौखिक स्वास्थ्य और स्वच्छता प्रथाओं में सुधार करना है, साथ ही अच्छी मौखिक स्वच्छता बनाए रखने के महत्व के बारे में महत्वपूर्ण ज्ञान भी प्रदान करना है।

एसएमए पांच प्रमुख संदेशों पर जोर देता है जो स्वस्थ मुंह बनाए रखने की नींव हैं। मौखिक स्वास्थ्य की हमारी खोज में ये आवश्यक अभ्यास महत्वपूर्ण हैं:

  1. दिन में दो बार दांतों को अच्छी तरह से ब्रश करना: अपने दांतों को सुबह और सोने से पहले फ्लोराइड टूथपेस्ट से अच्छी तरह से ब्रश करें। यह सरल लेकिन महत्वपूर्ण आदत पट्टिका को हटाने और दांतों की सड़न को रोकने में सहायता करती है।
  2. खाने या पीने के बाद कुल्ला करना: खाने या पीने के बाद पानी से अपना मुँह कुल्ला करना सबसे अच्छा है। यह अभ्यास खाद्य कणों को हटाने और पट्टिका निर्माण को रोकने में सहायता करता है, जिससे मौखिक स्वच्छता बनी रहती है।
  3. एक स्वस्थ आहार अपनाना: मुंह के स्वास्थ्य के लिए पौष्टिक आहार जरूरी है। विटामिन ए और सी से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन मसूड़ों की बीमारी की रोकथाम में मदद करता है। समवर्ती रूप से, मीठे खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों की खपत को सीमित करना महत्वपूर्ण है, क्योंकि अतिरिक्त चीनी दाँत क्षय में योगदान दे सकती है।
  4. तंबाकू उत्पादों से परहेज करें: सिगरेट और धुंआ रहित तंबाकू दोनों ही मौखिक स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हैं। इन हानिकारक पदार्थों को मसूड़ों की बीमारी और मुंह के कैंसर के बढ़ते जोखिम से जोड़ा गया है। स्वस्थ मुंह और संपूर्ण तंदुरूस्ती को बनाए रखने के लिए तंबाकू उत्पादों से बचना आवश्यक है।
  5. नियमित डेंटल चेक-अप: वर्ष में कम से कम दो बार दंत चिकित्सक के पास जाने की सलाह दी जाती है। दांतों की नियमित जांच और सफाई से मसूड़ों की बीमारी और दांतों की सड़न का जल्दी पता लगाने में मदद मिलती है। ये दौरे अच्छे मौखिक स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने के लिए एक निवारक उपाय हैं।



3 bhk flats in dwarka mor
- Advertisement -spot_img

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img
Canada And USA Study Visa

Latest article